आजादी के बाद से वर्तमान तक के सभी प्रधानमंत्रीयो के नाम इस प्रकार है ( भारत के सभी प्रधानमन्त्रीयो के नाम बताए ) Name all the Prime Ministers of India

1– पंडित जवाहरलाल नेहरू ( 15 अगस्त 1947 – 27 मई 1964 )

पंडित जवाहरलाल नेहरू – इनका जन्म 14 नवंबर 1889 में इलाहाबाद में हुआ था।  इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा घर के पास के विद्यालय से की और 15 वर्ष की उम्र में ये  इंग्लैंड चले गए । जब यह भारत वापस आए । उसके बाद ये राजनीति से जुड़ गए 1916 में ये पहली बार महात्मा गांधी से मिले और उनके विचारधाराओं से काफी प्रेरित हुए। जिसके बाद इन्होंने महात्मा गांधी के साथ 1919 में होम रूल, 1920– 22 में असहयोग आंदोलन, 1928 में साइमन कमीशन के खिलाफ महात्मा गांधी के साथ अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन किये। 7 अगस्त 1942 में इन्होंने भारत छोड़ो आंदोलन में भी भाग लिया था , और ये कई बार स्वतंत्रता आंदोलन में जेल भी गए।  आजादी के बाद नेहरू जी 1947 से 1964 तक भारत के प्रथम प्रधानमंत्री के रूप में रहे।  जिसमे इन्होंने भारत के विकास में महत्वपूर्ण योजनाएं शुरू की और भारत के पंचवर्षीय योजना और औद्योगिक में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया । चाचा नेहरू एक कुशल वक्ता भी थे । इनके द्वारा कई कहानियां और पुस्तके भी लिखी।  जिसमें ‘भारत की खोज ’ और ‘ डिस्कवरी ऑफ इंडिया ’ और  ‘इंडिया के विदेश नीति ’ शामिल रहे ।  इन्होंने भारत के विकास के में अपना जीवन समर्पित कर दिया।

2 – गुलजारी लाल नंदा ( 27 मई 1964 –9 जून 1964 )

3– लाल बहादुर शास्त्री ( 9 जून 1964 –11 जनवरी 1966 )

लाल बहादुर शास्त्री – लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 में वाराणसी में हुआ।  इनके पिता एक शिक्षक रहे थे । पिता की मृत्यु के बाद ये अपने नाना के घर चले गए थे। गरीबी के कारण बचपन में प्रारंभिक शिक्षा अच्छी नहीं रही और उच्च शिक्षा के लिए ये अपने चाचा के साथ चले गए।  जहां शास्त्री जी को आजादी के संघर्ष में से जुड़े आंदोलन में रुचि आने लगा।  असहयोग आंदोलन के बाद शास्त्री जी 1921 से भारतीय कांग्रेस पार्टी से जुड़ गए थे।  जहां से ये एक कुशल नेता के रूप में आगे आए।  1946 में शास्त्री जी भारत सरकार में गृह मंत्री के पद पर भी रहे। 1950 में मंत्रिमंडल के सदस्य भी बने। और 1956 से यह गृहमंत्री और रेल मंत्री भी कार्य किया ।  9 जनवरी 1964 को इन्होंने भारत के दूसरे प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। जहां 1965 के भारत-पाक युद्ध में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई , इनके द्वारा ‘जय जवान जय किसान’ का नारा दिया गया। 11 जनवरी 1966 में उनकी मृत्यु हो गई।

4 – इंदिरा गांधी ( 24 जनवरी 1966 – 24 मार्च 1977 )
इंदिरा गांधी – इनका जन्म 19 नवंबर 1917 को हुआ। इंदिरा गांधी पंडित जवाहरलाल नेहरू की बेटी थी।  उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा इलाहाबाद से करने के बाद आगे की पढ़ाई के लिए लंदन चले गए थे।  चाचा नेहरू की मृत्यु के बाद 1966 में इन्होंने प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लिया। इंदिरा गांधी ने भारत के अर्थव्यवस्था में कहीं नए कदम उठाए।  कृषि और उद्योगों में इन्होंने अपना योगदान दिया इन्होंने महिलाओं की सुरक्षा और गरीबी को कम करने के लिए कहीं कदम उठाए। इनके द्वारा 1971 में भारत और पाक के युद्ध में महत्वपूर्ण योगदान दिया गया । इन्हें लोगों के  द्वारा एक तानाशाह के रूप में भी जाना जाता था । क्योंकि ये अपनी शक्ति का दुरुपयोग भी करते थी । इन्होंने भारत में आपातकाल भी लगाया । इनके द्वारा भारत को एक मजबूत राष्ट्र बनाया गया । उनकी हत्या 31 अक्टूबर 1984 में इनके ही दो अंगरक्षकों ने कर दी।

5– मोरारजी देसाई ( 24 मार्च 1977 – 28 जुलाई 1979 )
मोरारजी देसाई – इनका जन्म 19 फरवरी 1896 में गुजरात के छोटे से गांव में हुआ ।  इनके पिता एक शिक्षक थे। इनमे देशभक्ति  कूट-कूट कर भरी थी । 1924 में ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से जुड़े।  जहां ये कई बार स्वतंत्रता आंदोलन में जेल भी गए।  आजादी के बाद 1956 –1964 तक ये वाणिज्य मंत्री
और उद्योग मंत्री के रूप में रहे । 1964– 66 तक  ये वित्तीय मंत्री । 1966 –69 तक ये उप प्रधानमंत्री भी रहे।  1977 में जब भारतीय जनता पार्टी ने इंदिरा गांधी की सरकार को हराया । उस समय इन्हे भारतीय जनता पार्टी ने प्रधानमंत्री के रूप में मोरारजी देसाई के द्धारा पद संभाला।  अपने समय पर ये एक कुशल प्रधानमंत्री के रूप जाने जाते थे। इन्होंने आपातकाल को भी समाप्त किया और भ्रष्टाचार को अंकुश लगाया । देश की आर्थिक स्थिति को सुधरने में अपना योगदान दिया।  10 अप्रैल 1995 में इनकी मृत्यु हो गई ।

6– चौधरी चरण सिंह ( 28 जुलाई 1979 – 14 जनवरी 1980 )
चौधरी चरण सिंह – इनका जन्म 23 दिसंबर 1902 में उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव नूरपुर में हुआ था।  ये एक किसान परिवार से थे । 1929 में ये भारतीय कांग्रेस पार्टी से जुड़े तथा 1967–1970 तक ये उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री भी रहे।  जहां इन्होंने कहीं सुधार कार्यों को किया जिसमे भूमि सुधार व गरीबों के लिए कहीं योजनाएं शुरू की । जिससे कारण इन्हें एक कुशल नेता कहा गया । 1977 में इन्हे ग्रह मंत्री भी बनाया गया।  1979 में ये जनता पार्टी से अलग होकर कांग्रेस पार्टी तथा अन्य पार्टीयो के समर्थन से प्रधानमंत्री बने।  1980 में जनता पार्टी तथा कांग्रेस पार्टी के बीच मतभेद से इन्हें प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा।  इन्हें किसानों का मसीहा कहा जाता था।  उनकी मृत्यु 29 मई 1987 में हुई।

4 – इंदिरा गांधी ( 14 जनवरी 1980– 31 अक्टूबर 1984 )

7– राजीव गांधी – ( 31 अक्टूबर 1984 – 2 दिसंबर 1989 )
राजीव गांधी –इनका जन्म 20 अगस्त 1944 में मुंबई में हुआ था।  इनका जन्म एक राजनीतिक परिवार में हुआ था ।  इनके पिता फिरोज गांधी व माता इंदिरा गांधी थी।  प्रारंभिक शिक्षा मुंबई से करके स्विट्जरलैंड चले गए आगे की पढ़ाई के लिए।  1969 में इन्होंने राजनीति में प्रवेश लिया । 1984 में इंदिरा गांधी की मृत्यु के बाद कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष के रूप में आगे आए।  1984 में ये सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री बने । इन्होंने अपने कार्यकाल में शिक्षा में बल दिया इन्होंने भारत के अंतरिक्ष अनुसंधान के कार्यक्रमों में निवेश किया।  21 मई 1991 में तमिलनाडु में एक हमले में उनकी मृत्यु होगी।

8– विश्वनाथ प्रताप सिंह ( 2 दिसंबर 1989 – 21 जून 1990 )
विश्वनाथ प्रताप सिंह – इनका जन्म 25 जनवरी 1931 में इलाहाबाद में हुआ था।  इनके पिता एक जमींदार थे इन्होंने इलाहाबाद से ही कानून की पढ़ाई की । ये  कांग्रेस पार्टी से जुड़ने के बाद 1969 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा में सदस्य बने । और 1971 में ये केंद्र सरकार के मंत्री भी रहे,  1980 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। 1989 में इन्होंने जनता पार्टी का नेतृत्व किया जिसके बाद ये  भारत के प्रधानमंत्री भी बने।  इन्होंने पिछली जातियों के आरक्षण की व्यवस्था की।  1990 में इनके कुछ विवादों के चलते उनकी सरकार गिर गई । बाद में इन्होंने अपने राजनीतिक जीवन से संन्यास ले लिया।  27 नवंबर 2008 में इनके नई दिल्ली में इनका निधन हो गया।

9– चंद्रशेखर ( 10 नवम्बर 1990 – 21 जून 1991 )
चंद्रशेखर– इनका जन्म 17 अप्रैल 1927 में U.P. के एक छोटे से गांव में हुआ इनके पिता एक किसान थे । 1951 में इन्होंने इलाहाबाद से राजशास्त्र में M.A. की डिग्री उपाधि प्राप्त किया । ये एक पत्रकार भी थे , 1991 में इन्होंने ‘यंग इंडिया’ के साप्ताहिक पत्रिका की शुरूआत भी की थी। 1957 में इन्होंने बलिया से राज्यसभा के सदस्य बने । 1977 में जनता पार्टी के गठन के बाद पार्टी के अध्यक्ष बने तथा 1989 में आम चुनाव में  कांग्रेस पार्टी को हराकर ये  भारत के प्रधानमंत्री बने इन्होंने 10 महीने तक प्रधानमंत्री के पद पर कार्य किया । इन्होंने अपने कार्यकाल में गरीबों व किसानों के लिए कई कदम उठाए , इन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ा 8 जुलाई 2007 में उनकी मृत्यु हो होगी।

10– पी.वी नरसिम्हा ( 21 जून 1991 – 16 मई 1996 )
पी.वी नरसिम्हा– पी.वी नरसिम्हा का जन्म 28 जनवरी 1921 में आंध्र प्रदेश में हुआ।  इन्होंने उस्मानी विश्वविद्यालय , मुंबई विश्वविद्यालय और नागपुर विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त की । 1971 –73 तक ये आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में रहे । 1980 –84 तक ये विदेश गृहमंत्री और रक्षा मंत्री के रूप में इन्होंने कार्य भार संभाला।  1991 के चुनावो में राजीव गांधी की मृत्यु के बाद भारत के प्रधानमंत्री के रूप में आगे आए । इन्होंने भारत की अर्थव्यवस्था को उदारवादी और वैश्वीकरण के ओर ले जाने में अपना योगदान दिया। जिसे हम ‘ नरसिम्हा राव सुधार ’ कहा गया । इनके कार्यकाल में भारत ने सफल परमाणु परीक्षण किया और विश्व व्यापार संगठन में प्रवेश किया तथा सार्क की स्थापना में एक कुशल प्रधानमंत्री के रुप में अपनी भूमिका निभाई।  1998 में इन्हे भारत रत्न भी प्राप्त हुआ।  23 दिसंबर 2004 को इनकी मृत्यु हो गई।

11– अटल बिहारी वाजपेई ( 16 मई 1996 – 1 जून 1996 )
अटल बिहारी वाजपेई– इनका जन्म 25 दिसंबर 1924 को  मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में हुआ। इनके पिता एक शिक्षक थे , प्रारंभिक शिक्षा ग्वालियर से करने के बाद ये  कानपुर विश्वविद्यालय से राजनीतिक में  स्नातक की उपाधि प्राप्त की । 1957 में इन्होंने लोकसभा का चुनाव लड़ा जिसके बाद ये लगातार लोकसभा के सदस्य बने रहे । ये विदेश मंत्री, गृहमंत्री सूचना और प्रसारण मंत्री के रूप में भी इन्होंने कार्य किया।  1977–79 में जनता पार्टी में विदेश मंत्री रहे , 1996 में जब भाजपा लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में आगे आए तब प्रधानमंत्री के रूप में इन्होंने शपथ ग्रहण की । लेकिन इनकी सरकार 13 दिनो तक ही चल पाई।  सरकार के गिरने के बाद 1998 में दोबारा चुनाव में दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में अटल बिहारी वाजपेई आए और 2004 तक प्रधानमंत्री के रूप में रहे हैं इनके कार्यकाल में परमाणु परीक्षण भारत और पकिस्तान के साथ अच्छे संबंधो के कहीं काम किए गए। और वाजपेई को उनके भाषणों के लिए भी जाना जाता था।  इन्हें ‘शब्दों का जादूगर’ कहा जाता था।  16 अगस्त  2018 में उनकी मृत्यु हो गई।

12– एच डी देवेगौड़ा ( 1 जून 1996 – 21 अप्रैल 1997 )
हरदनहल्ली डोड्डेगौड़ा देवेगौड़ा –  इनका जन्म 18 मई 1973 में कर्नाटक के एक छोटे से गांव में हुआ । इन्होंने सिविल इंजीनियर में डिप्लोमा किया । 1953 में ये कांग्रेस पार्टी से जुड़े ,1962 में ये कांग्रेस पार्टी से अलग होकर जनता पार्टी ही में शामिल हुए। जहां कर्नाटक में लगातार पांच बार विधानसभा चुनावो में जीत मिली।  1983 में जनता पार्टी के सरकार बनने के बाद लोकसभा लोक का निर्माण और सिंचाई मंत्री भी बने । जहां इन्होंने कहीं काम में किया , 1987 में इन्होंने कुछ कारणों से मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया । 1994 में विधानसभा के चुनाव में जीत के बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने और 1996 के चुनाव में कांग्रेस पार्टी को बहुमत से ये प्रधानमंत्री बने।  1997 में संसद में विश्वास मत हारने से इन्हें प्रधानमंत्री से इस्तीफा देना पड़ा इन्होंने गरीबों  और किसानों के लिए कहीं कार्य किया।

13 –इंद्र कुमार गुजराल ( 21 अप्रैल 1997 – 19 मार्च 1998 )
इंद्र कुमार गुजराल– इनका जन्म 14 दिसंबर 1919 में हुआ था। 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में भी इन्होंने हिस्सा लिया था । जिसमें ये जेल भी गए थे भारत के प्रधानमंत्री बनने से पहले ये भारत के अन्य विभागो में कायत भी रहे।  अपने कार्यकाल में ये आपने विदेश नीतियों के कारण जाने जाते हैं तथा उनके एक पड़ोसी देशों से शांतिपूर्ण संबंध बनाने तथा इन्होंने देश में आर्थिक विकास में कई प्रयास किये। 30 नवंबर 2012 में गुड़गांव में इनकी मृत्यु हो गई।

11 – अटल बिहारी वाजपेई ( 19 मार्च 1998 – 22 मई 2004 )

14–मनमोहन सिंह ( 22 मई 2004 – 17 मई 2017 )
मनमोहन सिंह – इनका जन्म 26 सितंबर 1932 में पाकिस्तान के गांव में हुआ था । ये  एक अर्थशास्त्री भी हैं इन्होंने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में D.phil की डिग्री प्राप्त की।  जहां 1963 में ये  एक राजनीति में एक आर्थिक सलाहकार के रूप में आए तथा ये  वित्तीय मंत्रालय में आर्थिक सलाहकर्ता और भारत के रिजर्व बैंक के गवर्नर भी रहे हैं।  1991 में यह पीवी नरसिम्हा राव के वित्त मंत्री बने । इन्होंने 1991 में अर्थव्यवस्था में अपना योगदान दिया ।  2004 में राष्ट्रीय कांग्रेस के गठबंधन में इन्होंने अपनी सरकार बना दी जिसमें ये प्रधानमंत्री बने और 2009 में इन्हें यह मौका दोबारा मिला इन्होंने देश के अर्थव्यवस्था में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।

15 – नरेंद्र मोदी ( 26 मई 2014 – पद पर है )
नरेंद्र मोदी – इनका जन्म 17 सितंबर 1950 में गुजरात के वडनगर में हुआ । इन्होंने अपनी शिक्षा गुजरात राज्य से की।  1975 में ये  भारतीय जनता पार्टी से जुड़े तथा 1981 से 1995 तक गुजरात भाजपा के अध्यक्ष रहे।  1995 से ये गुजरात के मुख्यमंत्री बने रहे जहां ये 13 वर्षों तक उन्होंने अपनी सेवा दी। इन्होंने गुजरात की आर्थिक स्थिति और कानून व्यवस्था को बेहतरीन बनाया।  26 मई 2014 में इन्होंने भारत के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली । जहां इन्होंने अपने कार्यकाल में कहीं आर्थिक व सामाजिक सुधारो को लागू किया इनके समय में देश की अर्थव्यवस्था में गति तेजी से बड़ी । जिसके कारण 2019 के चुनाव में भी इन्हें दोबारा प्रधानमंत्री बनने का मौका मिला।  जिसके कारण ये लोगों में यह काफी लोकप्रिय प्रधानमंत्री बने।

11 thoughts on “आजादी के बाद से वर्तमान तक के सभी प्रधानमंत्रीयो के नाम इस प्रकार है ( भारत के सभी प्रधानमन्त्रीयो के नाम बताए ) Name all the Prime Ministers of India”
  1. What i do not understood is in truth how you are not actually a lot more smartlyliked than you may be now You are very intelligent You realize therefore significantly in the case of this topic produced me individually imagine it from numerous numerous angles Its like men and women dont seem to be fascinated until it is one thing to do with Woman gaga Your own stuffs nice All the time care for it up

  2. Someone essentially lend a hand to make severely
    articles I might state. This is the very first time I frequented your web page
    and thus far? I surprised with the research you made to create this actual publish amazing.
    Fantastic activity!

  3. Thanks I have recently been looking for info about this subject for a while and yours is the greatest I have discovered so far However what in regards to the bottom line Are you certain in regards to the supply

  4. Wonderful beat I wish to apprentice while you amend your web site how could i subscribe for a blog web site The account aided me a acceptable deal I had been a little bit acquainted of this your broadcast provided bright clear idea

  5. At 2 Love Tale, every article is a scene, every opinion is a script, and every reader is the star. So, if you’re seeking stories that resonate, music that moves, and films that fascinate, your spotlight is here. Curtain up – your seat is reserved!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *