विद्युत धारा के बारे में संक्षिप्त में about the electric current part 2

  • प्रतिरोध क्या होता है विद्युत धारा में
  • प्रतिरोधकता किसमें पाई जाती है
  • ओम का क्या नियम है
  • प्रतिरोध का श्रेणी क्रम
  • समानांतर प्रतिरोध क्या है
  • विद्युत अपघटन क्या है
  • विद्युत विद्युत सेल क्या होता है
  • विद्युत सेल के प्रकार
  • प्राथमिक सेल क्या होते हैं
  • द्वितीयक सेल क्या होते हैं
  • विद्युत शक्ति का मापन कैसे होता है
  • फ्यूज क्या होता है और इसका उपयोग
  • संधारित्र क्या होता है
  • संधारित्र का श्रेणी क्रम और समांतर क्रम

प्रतिरोध क्या होता है विद्युत धारा में :-
यदि किसी भी बंद परिपथ में चालक में विद्युत धारा को प्रभावित करें तो जो उसके सिरों के मध्य विभावांतर और उसमें प्रभावित धारा का एक अनुपात होता है जिसे हम प्रतिरोध कहते हैं
Note – प्रतिरोध का S.I. मात्रक ओम होता है।

प्रतिरोधकता किसमें पाई जाती है
धातु में प्रतिरोधक की संख्या पाई जाती हैं लेकिन यह संख्या कम होती है अधातु में प्रतिरोधक संख्या अत्यधिक मात्रा में होती है

Note तापमान बढ़ने पर पदार्थ में प्रतिरोधकता भी बढ़ जाती है

ओम का क्या नियम है
यदि किसी चालक के ताप पर कोई परिवर्तन किए बिना चालक के सिरों पर लगाया गया विभवांतर उस चालक में प्रभावित होने वाली धारा के अनुक्रमांपाती होता है यही ओम का नियम है ।
ओम का नियम का सूत्र इस प्रकार है
V = RI
जहा

  • विभवांतर वोल्ट (V)
    *धारा एंपियर (I )
    *प्रतिरोध ओम (R)

Note ओम का नियम उन पदार्थों पर लागू होता है जहां विभवांतर और धारा के बीच एक रेखीय का संबंध होता है

  • ताप बढ़ने पर किसी भी धातु का प्रतिरोध बढ़ता है
    *किसी भी चालक में प्रतिरोध का मान लंबाई बढ़ने पर बढ़ता है

प्रतिरोध का श्रेणी क्रम
किसी भी प्रतिरोध का श्रेणी क्रम यह दर्शाता है कि उसका कुल प्रतिरोध उस परिपथ में कुल प्रतिरोध के योग के बराबर होता है
प्रतिरोध को हम R से दर्शाते हैं प्रतिरोध का सूत्र श्रेणी क्रम में नीचे दिया गया है।
R = R1+ R2+ R3+…..

Ex – यदि हमारे पास कोई 2Ω, 5Ω, 7Ω का प्रतिरोध हो तो हम इसे श्रेणी क्रम में इस प्रकार लिखेंगे
R = 2Ω + 5Ω +7Ω
R = 14Ω
इस प्रकार हम इसका प्रतिरोध निकालते है

Note :- यदि हम बहुत सारे बल्ब को श्रेणी क्रम में लगा देंगे जिससे कि प्रतिरोध की संख्या बढ़ जाएगी बल्ब द्वारा दिया गया प्रकाश जो कि बहुत कम हो जाएगा प्रतिरोध के बढ़ने से।

समानांतर प्रतिरोध क्या है
यदि आपके पास कुछ प्रतिरोध दिए गए हैं जिन्हें समानांतर श्रेणी में लगाना है तो हम उन प्रतिरोधों को समानांतर श्रेणी में इस प्रकार दर्शाते हैं
1/R = 1/R1 + 1/R2 +1R3+ ….

Ex यदि आपके पास कुछ प्रतिरोध दिए गए हैं जो कि समानांतर क्रम में है ये प्रतिरोध इस प्रकार हैं 10 Ω, 10 Ω , 20 Ω इन्हें समानांतर श्रेणी में लगाकर इन का प्रतिरोध निकालते हैं

1/R = 1/ R1 + 1/ R2 +1/ R3+ ….
1/R = 1/ 10 + 1/ 10 + 1/ 20
1/R = 1/ 4
R= 4
इस प्रकार हम इसका प्रतिरोध निकालते है

Note यदि हम प्रतिरोधों को समानांतर क्रम मैं जोड़ते हैं तो उनमें प्रतिरोध समान रूप से लगता है जिससे धारा अधिक प्रवाह होती है

  • हमारे घरों में जो प्रतिरोध लगाए जाते हैं वे सभी समानांतर क्रम में होते हैं

विद्युत धारा का रासायनिक प्रभाव क्या होता है विद्युत धारा में रसायनिक प्रभाव को विद्युत अपघटन या विद्युत रसायनिक बल कहते हैं इनमें इलेक्ट्रॉनों का प्रवाह होता है जब इनमें विद्युत धारा प्रवाहित किया जाता है तो इन में उपस्थित आयन अलग अलग हो जाते हैं ऋण आत्मक इलेक्ट्रो कैथोड की ओर गति करते हैं और धनात्मक इलेक्ट्रोड एनोट की ओर गति करते हैं यह रसायनिक अभिक्रिया द्वारा अलग अलग हो जाते हैं इसी को ही हम रासायनिक प्रभाव कहते हैं

विद्युत अपघटन क्या है
किसी धातु में विद्युत क्षेत्र उत्पन्न करने पर उनमें दो आवेश उत्पन्न हो जाते हैं जिन्हें हम ऋण आत्मक आवेश और धनात्मक आवेश कहते हैं इसी को ही हम विद्युत अपघटन कहते हैं

विद्युत विद्युत सेल क्या होता है
विद्युत सेल एक ऐसी प्रक्रिया है जो रसायनिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में बदलता है इसमें दो इलेक्ट्रोड होते हैं एक धनात्मक इलेक्ट्रोड जो कैथोड पर होता है और दूसरा ऋण आत्मक इलेक्ट्रोड जो एनोट पर होता है और जब इनकी रसायनिक अभिक्रिया की जाती है तो इससे विद्युत ऊर्जा मिलती हैं तो इसी अभिक्रिया को विद्युत सेल काम में लेती है यह प्रक्रिया ही विद्युत सेल दर्शाती है

Electrolysis diagram experiment

विद्युत सेल के प्रकार
आम तौर पर विद्युत सेल दो प्रकार के होते हैं

  • प्राथमिक सेल
  • द्वितीयक सेल

*प्राथमिक सेल क्या होते हैं
प्राथमिक सेल ऐसी रसायनिक अभिक्रिया है जो रासायनिक ऊर्जा को सीधे विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करता है। जैसे घड़ी का सेल

*द्वितीयक सेल क्या होते हैं
द्वितीयक सेल ऐसी रसायनिक अभिक्रिया है जो विद्युत ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में बदलता है फिर रसायनिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में बदलता है यही प्रक्रिया चलती रहती है

उदाहरण के लिए मोबाइल में यूज होने वाली बैटरी इस प्रकार की अभिक्रिया को फॉलो करती है

विद्युत शक्ति का मापन कैसे होता है
विद्युत शक्ति का मापन वोल्ट में किया जाता है जिसमें वह विद्युत धारा और विद्युत विभवांतर के गुणनफल के बराबर होता है यह इस प्रकार होता है

P = I × V

विद्युत शक्ति (वाट) = P
विद्युत धारा (एंपियर )= I
विद्युत विभवांतर (वोल्ट) = V

Ex यदि हम किसी बल्ब पर 20 एंपियर की धारा डाले तो और इसके शिराओं में 100 वोल्ट का विभांतर हो तो ।तो इसके विद्युत शक्ति हम इस प्रकार निकलेंगे। यह कुछ इस प्रकार है

  • P = 20 × 100 = 2000 वाट

फ्यूज क्या होता है और इसका उपयोग
फ्यूज एक सुरक्षा उपकरण है जो विद्युत सर्किट को शॉर्ट सर्किट होने से बचाता है यह एक पतली धातु की तार का होता है जो टीन और लेट के मिश्र धातु है जिस का गलनांक बहुत कम होता है यदि घर पर अधिक धारा आती है तो तो इसका कनेक्शन टूट जाता है क्योंकि इस का गलनांक बहुत कम होता है जिससे कि यह घर को बचाए रखता है यदि हम फ्यूज का उपयोग ना करें तो तो घर पर अधिक धारा आ जाती है जिससे कि पूरे घर को अधिक नुकसान पहुंच सकता है इसलिए हम फ्यूज का प्रयोग करते हैं। और यह श्रेणी क्रम में जुड़ा रहता है।

संधारित्र क्या होता है
यह एक ऐसी युक्ति है जिसमें आवेश का स्थिति ऊर्जा के रूप में जमा किया जाता है यह दो या दो से अधिक प्लेटों से बना रहता है और इसमें सभी प्लेटों के बीच में विद्युत क्षेत्र होता है जो दूसरे प्लेटों को विपरीत आवेश देता है जिससे उनके बीच में एक दूरी रहती है इसका उपयोग विद्युत उपकरण में होता है जैसे कंप्यूटर और टीवी आदि ।
Note संधारित्र गोलाकार ,सिलेंडर या प्लेट के आकार की हो सकती हैं

संधारित्र का श्रेणी क्रम और समांतर क्रम
*श्रेणी क्रम जब हमारे पास कुछ संधारित्र दिए होते हैं वह श्रेणी क्रम में इस प्रकार दर्शाते हैं

संधारित्र का श्रेणी क्रम
C = C1 + C2 + C3+…

संधारित्र का समांतर क्रम :- जब हमारे पास कुछ संधारित्र होते हैं समांतर क्रम में इस प्रकार दर्शाते हैं
1/C = 1/C1+ 1/C2

विद्युत धारा के बारे में part 1 . यह second part की पोस्ट है । First part link

2 thoughts on “विद्युत धारा के बारे में संक्षिप्त में about the electric current part 2”
  1. Hi there, just became aware of your blog through Google, and
    found that it is truly informative. I am going to watch out for brussels.
    I will appreciate if you continue this in future.
    Lots of people will be benefited from your writing.
    Cheers!

  2. Hello! You’ve done an incredible job here. I’ll definitely bookmark it and enthusiastically suggest it to my friends. I’m sure they’ll find this website quite beneficial. By the way I am a Senior Researcher @ (Clickmen™)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *