1872 से 2011 तक की जनगणना की पूरी तरह से विश्लेषण Complete analysis of census from 1872 to 2011

  • भारत की जनगणना संबंधित प्रमुख घटनाएं कुछ इस प्रकार है
  • 1881 की पहली संपूर्ण जनगणना के बारे में
  • भारत की आबादी कुछ इस प्रकार थी,स्वतंत्रता पूर्व ।
  • स्वतंत्रता के बाद पहली जनगणना
  • धार्मिक आधार पर गणना 1951 के तहत
  • 1961 की जनगणना कुछ इस प्रकार
  • 1971 की जनगणना कुछ इस प्रकार
  • 1981 की जनगणना कुछ इस प्रकार
  • 1981 में धर्म आधारित गणना
  • 1991 की जनगणना इस प्रकार
  • 2001 की जनगणना कुछ इस प्रकार
  • धार्मिक आंकड़ों के हिसाब से 2001 में
  • 1901 से 2011 तक साक्षरता दर में बढ़ोतरी

भारत की जनगणना संबंधित प्रमुख घटनाएं कुछ इस प्रकार है
पहली जनगणना 1872 यह जनगणना ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड मेयो के द्वारा किया गया यहां से हर 10 साल बाद जनगणना शुरू किया। लेकिन भारत की पहली संपूर्ण जनगणना 1881 को कहा जाता है,

1881 की पहली संपूर्ण जनगणना के बारे में
1881 की जनगणना का उद्देश्य प्रशासनिक लाभ प्राप्त करना था, यह जनगणना ब्रिटिश अपने हित के लिए कर रही थी ,जिससे वे भारतीय समाज को अच्छी तरह से समझ सके। पर भारत की आबादी सबसे पहले गिरावट 1911 से 1921 के बीच पाएगी क्योंकि उसे समय स्पेनिश फ्लू महामारी इसका कारण बना।

भारत की आबादी कुछ इस प्रकार थी,स्वतंत्रता पूर्व ।
1901 – 238,396,327
1911 – 252,093,390
1921 – 251,321,213
1931 – 278,977,238
1941 – 318,660,580

स्वतंत्रता के बाद पहली जनगणना
1947 में भारत की आजादी के बाद तथा भारत की विभाजन के बाद भारत में जनगणना की शुरुआत की गई, 1948 की जनगणना अधिनियम से पहली जनगणना 10 फरवरी 1951 में शुरू किया गया ।भारत की जनसंख्या को 361,088,090 इतना मान गया, यह 1941 की जनसंख्या का 13.31% इतना अधिक था। लेकिन इसमें 1951 की जनगणना में जम्मू और कश्मीर को नहीं लिया गया था , इस आंकड़ों से हमें पता चलता है कि 1951 में 18% ही साक्षर थे, आजादी के बाद 7,22,600 मुसलमान भारत से पाकिस्तान गए तथा 72,49,000 हिंदू सिख पाकिस्तान से भारत में आए थे ।

1901 से 2011 तक साक्षरता दर में बढ़ोतरी

Focused tiny people reading books. Studying, story, library flat vector illustration. Knowledge and education concept for banner, website design or landing web page
Years total%male %female %
19015.359.830.60
19115.9210.561.05
19217.1612.211.81
19319.5015.592.93
194116.1024.907.30
195116.6724.959.45
196124.0234.4412.95
197129.0239.4518.69
198136.2346.8924.82
199142.8552.7232.17
200164.8375.2653.67
201174.0482.1465.46

धार्मिक आधार पर गणना 1951 के तहत
हिंदू — 84.1%
मुसलमान — 9.49 %
ईसाई — 2.3 %
सिख — 1.89 %
बुद्ध — 0.74 %
जैन — 0.46%

1961 की जनगणना कुछ इस प्रकार
कुल आबादी – 438,936,918
ज्यादा आबादी वाला राज्य- 7,01,44,160u.p.
कम आबादी वाला राज्य – 162,863 Sikkim

1971 की जनगणना कुछ इस प्रकार
कुल आबादी – 547,949,809
ज्यादा आबादी वाला राज्य -88,340,000 u.p.

1981 की जनगणना कुछ इस प्रकार
कुल आबादी – 685,184,692
ज्यादा आबादी वाला राज्य-105,113,300u.p
कम आबादी वाला राज्य – 316,840 sikkim

1981 में धर्म आधारित गणना


हिंदू – 82.64 %
मुस्लिम – 11.35 %
ईसाई – 2.43 %
सिख – 1.97 %
बुद्धिस्ट – 0.71 %
अन्य धर्म – 0. 92 %

People holding diverse religious symbols illustration

1991 की जनगणना इस प्रकार
यह भारत की 13वीं जनगणना थी। इसमें जम्मू और कश्मीर शामिल नहीं थे।
जनसंख्या – 838,583,988

हिंदू – 81.53%
मुसलमान – 12.61%
ईसाई – 2.32%
सिख – 1.94%
बौद्ध – 0.77%
जैन – 0.40%
पारसी – 0.08%
अन्य – 0.44%

2001 की जनगणना कुछ इस प्रकार
यह जनगणना 14वी जनगणना थी।
जनसंख्या – 1,028,737,436
532,223,090 male
486,514,346 female

धार्मिक आंकड़ों के हिसाब से 2001 में
हिंदू – 80.45%
मुसलमान – 13.4%
ईसाई – 2%
सिख – 1.89%
बौद्ध – 0.79%
जैन – 0.46%
अन्य – 0.45%

यदि आप 2011 की जनगणना पढ़ना चाहते है पूरी डिटेल के साथ यहां क्लिक करे

One thought on “1872 से 2011 तक की जनगणना की पूरी तरह से विश्लेषण Complete analysis of census from 1872 to 2011”
  1. This website is truly fantastic! It’s packed with a wealth of valuable information. I’ve decided to share it with a handful of my friends, and I’m also bookmarking it for future. Of course, a big thank you for all your hard work and effort! By the way I am a Senior Researcher @ (Clickmen™)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *